Supportntest
Acharya Siyaramdas

चरित्र केवल व्यभिचार से वचने तक ही सीमित नहीं है । हमारी समस्त मर्यादित क्रियायों का ही नाम चरित्र है । किन्तु इसमें प्रधानतया जिह्वा और शिश्नेन्द्रिय पर संयम अत्यावश्यक है ।।

#आचार्यसियारामदासनैयायिक 

Acharya Siyaramdas
आचार्य सियारामदास नैयायिक
Acharya Siyaramdas
आचार्य जी के बारे में

आचार्य सियारामदास नैयायिक

जीवनवृत्त--

नाम- आचार्य सियारामदास नैयायिक

जन्मतिथि ---1/10/1967

लिंग- पुरुष

आश्रम- सन्न्यास

गुरुदेव----- महान्त श्रीनृत्यगोपालदास शास्त्री

अध्यक्ष---श्रीरामजन्मभूमिन्यास समिति

श्रीमणिरामदासछावनी सेवाट्रस्ट, अयोध्या,फैजाबाद, उत्तर प्रदेश,भारत ।

>>>>>>>> शैक्षणिक योग्यता<<<<<<<<<<

न्यायाचार्य---सन् 1989

वेदान्ताचार्य--सन् 1992

स्वतन्त्र अध्ययन ----नव्य व्याकरण, साहित्य, पूर्वमीमांसा,आदि

अध्ययन सान्निध्य--अयोध्या में -- श्रीरामदुलारे शुक्ल, श्

और पढ़ें
  • नवीनतम लेख

  • खोज



  • नवीनतम ब्लॉग
    नवंबर 14, 2017 श्रीमद्भगवद्गीता, द्वितीय अध्याय,श्लोक-४ की व्याख्या Tweet   अर्जुन उवाच   कथं भीष्ममहं संख्ये द्रोणं च मधुसूदन ।इषुभि: प्रतियोत्स्यामि पूजार्हावरिसूदन ॥४॥   व्याख्या  - पूर्व में अर्जुन ने कहा था कि इस युद्ध में स्वजनों के वध से हमें नरक की प्राप्ति होगी; क्योंकि हमें इनके वध से पाप लगेगा—“पापमेवाश्रयेदस्मान्—“१/३६, मधुसूदन ! हम शोक या मोह… और पढ़ें