Supportntest
Acharya Siyaramdas


image

जिसके हृदय में यह दृढ़ विश्वास है कि मात्र भगवान् ही सबके रक्षक हैं । सम्पूर्ण वस्तुयें उन्हीं की भोग्य हैं, अन्य किसी की नहीं । और अपनी प्राप्ति वे स्वयं अपनी कृपा से करा देते हैं । वे साधनसाध्य नहीं हैं । सम्पूर्ण जीव जगत् उन्हीं का शरीर और उन्हीं से नियन्त्रित है । उनसे भिन्न कोई भी वस्तु नहीं --ऐसी दृढ़ धारणा से युक्त गुरुपदिष्ट मार्ग से साधन की दृष्टि से नहीं अपितु कर्तव्य की दृष्टि से जो प्रभुकैंकर्य में लगा हो । उसकी इसी जन्म में मुक्ति निश्चित है ।
जय श्रीराम
#आचार्यसियारामदासनैयायिक

Acharya Siyaramdas
आचार्य सियारामदास नैयायिक
Acharya Siyaramdas
आचार्य जी के बारे में

आचार्य सियारामदास नैयायिक

जीवनवृत्त--

नाम- आचार्य सियारामदास नैयायिक

जन्मतिथि ---1/10/1967

लिंग- पुरुष

आश्रम- सन्न्यास

गुरुदेव----- महान्त श्रीनृत्यगोपालदास शास्त्री

अध्यक्ष---श्रीरामजन्मभूमिन्यास समिति

श्रीमणिरामदासछावनी सेवाट्रस्ट, अयोध्या,फैजाबाद, उत्तर प्रदेश,भारत ।

>>>>>>>> शैक्षणिक योग्यता<<<<<<<<<<

न्यायाचार्य---सन् 1989

वेदान्ताचार्य--सन् 1992

स्वतन्त्र अध्ययन ----नव्य व्याकरण, साहित्य, पूर्वमीमांसा,आदि

अध्ययन सान्निध्य--अयोध्या में -- श्रीरामदुलारे शुक्ल, श्

और पढ़ें
  • नवीनतम लेख

  • खोज



  • नवीनतम ब्लॉग
    जून 5, 2018 योग का प्रथम द्वार Tweetयोगस्य प्रथमं द्वारं वाङ्निरोधोSपरिग्रह: । निराशा च निरीहा च नित्यमेकान्तशीलता ।। –विवेकचूडामणि-३६८ वाणी का निरोध,अनावश्यक वस्तुओं का संग्रह न करना, किसी से आशा न रखना, विविध कामनाओं का त्याग और नित्य एकान्त में निवास –ये चार वस्तुयें आत्मचिन्तक के लिए सर्वप्रथम आवश्यक हैं । –जय श्रीराम #आचार्य सियारामदास नैयायिक