Supportntest
Acharya Siyaramdas

 ram naam

दीपावल्या यथा भाति सर्वं वस्तु गृहे गृहे । तथैव भातु भारत्या भारतं भुवनत्रये ।।

जैसे दीपावली ( दीप की पङ्क्तियों ) से घर-घर की सम्पूर्ण वस्तुयें प्रकाशित होती हैं ।

वैसे ही भारतीय सरस्वती ( विद्या ) से भारत तीनों लोकों में प्रकाशित हो ।।

जय श्रीराम

#आचार्यसियारामदासनैयायिक

Acharya Siyaramdas
आचार्य सियारामदास नैयायिक
Acharya Siyaramdas
आचार्य जी के बारे में

आचार्य सियारामदास नैयायिक

जीवनवृत्त--

नाम- आचार्य सियारामदास नैयायिक

जन्मतिथि ---1/10/1967

लिंग- पुरुष

आश्रम- सन्न्यास

गुरुदेव----- महान्त श्रीनृत्यगोपालदास शास्त्री

अध्यक्ष---श्रीरामजन्मभूमिन्यास समिति

श्रीमणिरामदासछावनी सेवाट्रस्ट, अयोध्या,फैजाबाद, उत्तर प्रदेश,भारत ।

>>>>>>>> शैक्षणिक योग्यता<<<<<<<<<<

न्यायाचार्य---सन् 1989

वेदान्ताचार्य--सन् 1992

स्वतन्त्र अध्ययन ----नव्य व्याकरण, साहित्य, पूर्वमीमांसा,आदि

अध्ययन सान्निध्य--अयोध्या में -- श्रीरामदुलारे शुक्ल, श्

और पढ़ें
  • नवीनतम लेख

  • खोज



  • नवीनतम ब्लॉग
    सितम्बर 1, 2018 कृष्णजन्माष्टमी २ सितंबर रविवार को ही है । Tweet भगवान् श्रीकृष्ण का प्राकट्य अर्द्धरात्रि में रोहिणी नक्षत्र में हुआ था । जन्माष्टमी व्रत विना रोहिणी के भी होता है। किन्तु यदि अष्टमी कै साथ रोहिणी नक्षत्र का सम्बन्ध अर्धरात्रि में हो जाय तो इस अष्टमी की कृष्णजयन्ती संज्ञा हो जाती है । यह रोहिणी रहित जन्माष्टमी से कई… और पढ़ें