विवेक

हम शरीर नही अपितु आनन्दघन हैं –इसी में सकल शास्त्रों का पर्यवसान है ।

टिप्पणियां

टिप्पणियां

Acharysiyaramdas

के बारे में Acharysiyaramdas

आचार्य सियारामदास नैयायिक भूतपूर्व पीठाध्यक्ष श्रीरामानन्दाचार्यवेदान्तपीठ जगद्गुरु रामानन्दाचार्य राजस्थान संस्कृत विश्वविद्यालय, मदाऊ,पो0 भाँकरोटा , जयपुर, राजस्थान ईमेल:guruji@acharysiyaramdas.com: +91-9460117766

Comments are closed.